Best Moral Stories For Teenagers – अकबर और बीरबल की कहानी 3

0
271
Best Moral Stories For Teenagers
Best Moral Stories For Teenagers

Moral Stories For Teenagers

बीरबल ने पकड़ा रुई और कपास चोर को – Best Moral Stories For Teenagers

बादशाह अकबर हथकरघा व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए दलालों के माध्यम से बड़ी मात्रा में कपास मंगवाते थे और बहुत ही सस्ती दर पर कपास काटने वाले कारीगरों को दे देते थे, जिससे उनका गुजारा होता रहता था। वे कारीगर कपास से सूत काटकर दरबार मैं वापस लौटा देते और दरबार से वह सूत पुन: व्यापारियों को बेचा जाता था, लेकिन जब हर महीने के अंत में हिसाब लगाया जाता तो कपास की मात्रा में गड़बड़ी मिलती। हर तरह से कोशिश करने के बाद भी कपास की चोरी पकड़ी नहीं गई तो बादशाह अकबर ने यह काम बीरबल को सौंप दिया। बीरबल ने जब जाँच की तो उन्होंने पाया कि जो दलाल कपास बेचते हैं, गड़बड़ी उन्हीं की तरफ से होती है और यह पता नहीं लग रहा था कि इन दलालों में से चोर कौन है। Best Moral Stories For Teenagers

Best Moral Stories For Teenagers

काफी कोशिश करने के बाद भी जब कपास चोर का पता नहीं चल पाया तो बीरबल ने कपास के सभी दलालों को दरबार में बुलाया। पहले तो वह कपास के व्यवसाय से होने वाले नुकसान की बात करते रहे। फिर कुछ सोचकर बोले- “अगर हालात यही रहे तो हमें यह कपास का व्यापार बंद करना पड़ेगा। मैं नहीं चाहता कि एक चोर की वजह से आप सभी दलालों का नुकसान हो, वैसे चोर बहुत चालाक है और आप ही में से कोई एक है। मैं उसे जानता हूँ, वह कपास की मात्रा में कमी करके तो चोरी करता ही है और दरबार में आने के बाद कुछ कपास पगड़ी में भी छिपा लेता है, मैं उससे बाद में अकेले में बात करूँगा।”

Also read :-Shiba Inu Big Jump, Including In The List Of Top 10 Trading Tokens

Best Moral Stories For Teenagers

बीरबल ने यह सब कहने के बाद सभी दलालों पर पूरी नजर रखने लगे। वह उनकी एक एक हरकत को देख रहे थे। उन दलालों में सचमुच कपास चोर भी था। बीरबल को लगा की एक दलाल की पगड़ी में शायद कपास लगी हुई है। उसने नजरें बचाकर अपनी पगड़ी पर हाथ फेरा हुआ है। यह सब देखकर बीरबल जी ने तुरन्त उसको गिरफ्तार करने का आदेश दे दिया। जब उससे सख्ती की गई तो उसने कपास की चोरी करना स्वीकार कर लिया। बीरबल ने उसे कारागार भेज दिया। बादशाह अकबर कपास चोर के पकड़े जाने से बेहद खुश हुए।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें