What are the 3 main sources of water? | जल के 3 मुख्य स्रोत कौन से हैं?

0
338
What are the 3 main sources of water? | जल के 3 मुख्य स्रोत कौन से हैं?
What are the 3 main sources of water

What are the 3 main sources of water? – जल के 3 मुख्य स्रोत कौन से हैं?

यह लेख आपको आपके क्षेत्र में जल आपूर्ति स्रोतों का विस्तृत विश्लेषण देगा। आइए भारत में पीने के पानी के तीन मुख्य स्रोतों पर एक नज़र डालें: भूजल, सतही जल और समुद्र का पानी। और अधिक जानने के लिए आगे पढ़ें

जल का सबसे अच्छा स्त्रोत क्या है ? पीने के पानी के लिए उपयुक्त स्रोत चुनने से पहले कई कारकों पर विचार किया जाना चाहिए। ऐसा ही एक कारक पीने योग्य पानी की गुणवत्ता है। पीडब्ल्यूसी द्वारा किए गए शोध के अनुसार, यह स्पष्ट है कि बोतलबंद या नल के पानी में वास्तव में कोई दूषित या प्रदूषक नहीं होता है। वही प्राकृतिक जल के लिए जाता है जिसे झरनों, नदियों, झीलों, समुद्र आदि से प्राप्त किया जा सकता है। पीने के पानी के उपरोक्त तीन स्रोत अपने आप में पर्याप्त होने चाहिए। लेकिन कुछ ऐसे परिदृश्य होते हैं जब नल का पानी खपत के लिए अनुपयुक्त हो जाता है। main sources of water?

उदाहरण के लिए, यदि आप किसी ऐसे क्षेत्र में रहते हैं जहां गर्मी के दिनों में गर्म हवाओं और सर्दियों के महीनों में मानसून के कारण तापमान बढ़ जाता है; इसके परिणामस्वरूप पानी की गुणवत्ता कम हो जाती है जिससे हैजा, टाइफाइड, पेचिश आदि जैसे त्वचा रोग हो सकते हैं। इसी तरह दूषित भूजल का भी स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। यदि आपका पीने का पानी गंदे रसायनों, भारी धातुओं आदि से दूषित है तो आप बैक्टीरिया, वायरस, प्रोटोजोआ और अन्य जीवों के संपर्क में भी आ सकते हैं। अंत में, वाष्पीकरण के बाद ताजा पानी भी प्रदूषित हो सकता है। main sources of water?

इसलिए, नल के पानी के स्टेशनों से केवल साफ पानी खरीदने की सलाह दी जाती है। हालांकि, बोतलबंद पानी पीने से खुद को बीमारियों से बचाने में मदद मिल सकती है। यह वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो चुका है कि बोतलबंद पानी अपने हाइड्रेटिंग गुणों और शुद्धता के कारण स्वाभाविक रूप से हानिकारक सूक्ष्मजीवों से मुक्त है। इसलिए, आप जो पीते हैं उसे दूषित करने के बारे में चिंता न करें। यहां हमें केवल कुछ स्वस्थ रहने की आदतों और उचित आहार की आवश्यकता है। इसके अलावा, हमारे लेख को भी देखें – क्या बोतलबंद पानी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है? main sources of water?

स्रोत जल कैसे चुनें?

किसी भी पीने के पानी के स्रोत का निर्णय लेने से पहले, व्यक्ति को पहले पानी की मात्रा की पहचान करनी चाहिए जिसका वह उपभोग करने को तैयार है। आवश्यक पानी की मात्रा के अलावा, एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू पानी के वितरण की विधि है। सबसे आदर्श तरीका एक पंप का उपयोग करना है जो पाइपलाइन प्रणाली के माध्यम से शुद्ध पीने योग्य पानी पहुंचाता है। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि पाइपलाइन के माध्यम से वितरित पानी में रासायनिक कीटनाशकों और कीटाणुनाशकों जैसी अशुद्धियों का कोई निशान नहीं है। विचार करने का एक अन्य कारक यह है कि क्या जल स्रोत सुलभ है। main sources of water?

तभी हम अगले कदम पर आगे बढ़ सकते हैं। यदि जल स्रोत को हम तक पहुँचने में कठिनाई होती है, तो हम इसे प्राप्त करने के वैकल्पिक तरीकों का विकल्प चुन सकते हैं। एक अच्छा उदाहरण घरों के पास स्थित फव्वारों से बोतलबंद पानी या नल के पानी का उपयोग करना होगा। या फिर इसे पास के कुएं, तालाब, बोरवेल, नाले, तालाब आदि से भी प्राप्त किया जा सकता है। main sources of water?

भले ही प्लास्टिक, प्लास्टिक के ढक्कन वाली कांच की बोतलें आसानी से इधर-उधर ले जाई जा सकती हैं और देखने से दूर स्टोर की जा सकती हैं, लेकिन वे झरने या नदी के टैंक से निकाले गए पानी की तुलना में अधिक पोषण प्रदान नहीं करती हैं। इसलिए, हमें इसे चुनते समय इसकी स्थायित्व और पोर्टेबिलिटी पर विचार करना चाहिए। इन सभी विचारों के अलावा, हमें उस लागत और सुविधा को भी ध्यान में रखना चाहिए जो हम पानी के इस विशेष स्रोत का उपयोग करके हासिल करना चाहते हैं।

पीने के पानी की गुणवत्ता पर अधिक प्रभाव डालने वाले 3 कारक

पीने योग्य पानी की उपलब्धता, गुणवत्ता और समय पर वितरण सुरक्षित और सुरक्षित पानी उपलब्ध कराने के पीछे प्रमुख प्रेरणा शक्ति है। लेकिन ऐसे अन्य पहलू भी हैं जो पानी की समग्र गुणवत्ता को प्रभावित करते हैं। यहां हमें उन्हें गहराई से समझने की जरूरत है। main sources of water?

पीने के पानी की गुणवत्ता पर मौसम की स्थिति का प्रभाव

देश के विभिन्न भागों में उपलब्ध जल की गुणवत्ता को कई मौसम वैज्ञानिक कारक प्रभावित करते हैं। मौसम की कुछ स्थितियों में वर्षा, सूरज की तीव्रता या नमी, गर्मी की लहरें और अत्यधिक ठंडे तापमान शामिल हैं। इन मौसम स्थितियों के परिणामस्वरूप तापमान में परिवर्तन होता है और इसके परिणामस्वरूप एक संलग्न स्थान में आर्द्रता के स्तर में वृद्धि या कमी होती है। उच्च आर्द्रता वाले क्षेत्रों में जब ये परिवर्तन होते हैं तो जल प्रदूषण की संभावना बढ़ जाती है। main sources of water?

चूंकि मनुष्य अपने शरीर में पानी को अवशोषित करते हैं, जब स्तर बहुत कम होता है, तो वे हाइड्रेटेड रहने के लिए शरीर की जरूरत से ज्यादा पेशाब करते हैं। इसके अलावा, जब यह नम जलवायु परिस्थितियों में होता है, तो लोग अक्सर गर्म पेय पदार्थों के बजाय गुनगुना या गर्म पेय पीना पसंद करते हैं। वे दस्त और निर्जलीकरण से पीड़ित होने की संभावना रखते हैं, जो तब पानी की गुणवत्ता को प्रभावित करता है। main sources of water?

जब ऐसा होता है, तो यह खराब स्वच्छता और अपर्याप्त उपचार की ओर जाता है, जो अंततः इसके स्वाद और गंध को खराब कर देता है। इसके अलावा, जब पर्यावरण चरम मौसम से प्रभावित होता है, तो फसलें खराब हो सकती हैं (सूखे के कारण) या कम मात्रा में भोजन का उत्पादन होता है जिसके परिणामस्वरूप कुपोषण और निर्जलीकरण होता है। main sources of water?

प्रकृति बनाम पोषण कारक का प्रभाव

पोषण कारक, विशेष रूप से पोषण, स्वच्छता और जलवायु भी पानी की गुणवत्ता निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। बढ़ते शहरीकरण के साथ, वायु प्रदूषण की बढ़ती दरों, उच्च ईंधन की कीमतों, बढ़ती मांग और बढ़ती आबादी के कारण शहरी लोगों को बाहर रहते हुए भी पानी की निरंतर पहुंच की आवश्यकता होती है। शहरी आबादी पानी के अपने स्वयं के आंतरिक स्रोत उत्पन्न करती है। main sources of water?

जबकि वर्षा जल की उपस्थिति का मतलब यह नहीं है कि यह पूरे वर्ष उपलब्ध रहेगा, फिर भी यह स्वच्छ और सुरक्षित पेयजल प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बाहरी पानी के विपरीत, जिसे छानने और संसाधित करने में समय लगता है, जो संदूषण का कारण बनता है, मीठे पानी को कम प्रसंस्करण की आवश्यकता होती है और इसलिए यह अधिक आसानी से उपलब्ध होता है। शहरीकरण भी पानी की बर्बादी में काफी हद तक योगदान देता है। main sources of water?

अत्यधिक औद्योगिक अपशिष्ट, अपशिष्ट जल और कृषि बहिःस्रावों को माइक्रोबियल विकास को नियंत्रित करने के लिए उन्नत प्रक्रियाओं के बिना प्रभावी ढंग से उपचारित नहीं किया जा सकता है जो आगे चलकर स्वच्छ और किफायती पानी की गुणवत्ता को प्रभावित करता है। इसके अलावा, ग्लोबल वार्मिंग और महासागरों के अम्लीकरण से समुद्र में घुलित ऑक्सीजन का स्तर कम हो जाता है जिससे पौधों और शैवाल का जीवित रहना मुश्किल हो जाता है। main sources of water?

जनसंख्या स्तर और विकास दर का प्रभाव

देश भर में जनसंख्या विकास पानी की सतत गुणवत्ता सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जनसंख्या का बढ़ता स्तर प्राकृतिक संसाधनों पर उनकी मांगों के कारण दबाव बनाता है और जल संसाधनों की कमी और गिरावट की दर को बढ़ाता है। तीव्र जनसंख्या विस्तार की अवधि के दौरान, स्थानीय अधिकारियों को सार्वजनिक स्वास्थ्य और कल्याण को प्राथमिकता देनी होगी। main sources of water?

साथ ही, आपात स्थिति में पानी की कमी को दूर करने के लिए राज्य को रणनीति विकसित करनी चाहिए। जल संकट से जुड़े ज्यादातर मुद्दे आर्थिक विकास और जनसंख्या वृद्धि से जुड़े हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को घरेलू और औद्योगिक उपयोग के लिए पानी एकत्र करने के कुशल तरीकों की कमी के कारण कई बाधाओं का सामना करना पड़ता है। main sources of water?

पर्याप्त बुनियादी ढाँचे की कमी, दुर्गम कुएँ और अपर्याप्त पहुँच कई ग्रामीण बस्तियों को पानी की गंभीर कमी का शिकार बनाते हैं। नागरिकों द्वारा सामना की जाने वाली अन्य कठिनाइयाँ खराब अपशिष्ट प्रबंधन प्रणालियाँ हैं जो जल प्रदूषण में महत्वपूर्ण योगदान देती हैं। इसके बाद, यह जल जनित रोग जैसे जल जनित डायरिया संक्रमण के प्रकोप को ट्रिगर करता है। main sources of water?

वाटरशेड की स्थिरता को प्रभावित करने वाले कारक

जल जीवन के लिए आवश्यक है। इसलिए, इसकी निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास किया जाना चाहिए। जैव विविधता को बनाए रखना और यह सुनिश्चित करना भी समान रूप से आवश्यक है कि सभी के पास स्वच्छ और सुरक्षित पेयजल उपलब्ध हो। फिर भी, इस महान लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, पर्यावरणीय स्थिरता को प्रभावित करने वाले कारकों को समझना अत्यंत महत्वपूर्ण है। main sources of water?

आज के परिदृश्य से स्पष्ट है कि गैर-जिम्मेदार प्रथाओं के कारण पर्यावरण का क्षरण तेजी से खतरनाक होता जा रहा है। नतीजतन, हर सरकार को स्वच्छ और सुरक्षित पेयजल के लिए प्रयास करना चाहिए। अन्यथा, पानी की कमी और प्रदूषण जैसी समस्याएं पीढ़ियों तक बनी रह सकती हैं। इसलिए जागरूकता और शिक्षा सर्वोपरि है।